Success Stories

मसालायुक्त आजीविका

जब उचित मार्ग और प्रारंभिक हैंड होल्डिंग सहित सहायता प्रदान की जाये तो ग्रामीण महिलाओं में अपने जीवन और आजीविका में परिवर्तन लाने की पर्याप्त क्षमता होती है।यह कथन, इफको-टोकियो एकीकृत ग्रामीण विकास परियोजना-अजमेर (राजस्थान) में सच सिद्ध हो गया। […]

पलायन की सोच में परिवर्तन

उत्तराखंड के पहाड़ों की प्राकृतिक सुंदरता लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है। परन्तु, इन पहाड़ों के लाखों निवासी, इतनी सुन्दर जगह से पलायन करने को मजबूर हो गए हैं। इसका एक ही कारण है कि, यहाँ आजीविका के स्त्रोतों की कमी है। […]

VANISHED BUT REJUVENATED

THIS IS INDEED A STORY OF DILIGENT FARMER MR. SANNU SINGH RAWAT RESIDING IN VILLAGE BHAWANIPURA, BLOCK MASUDA BLOCK OF AJMER DISTRICT IN RAJASTHAN. HE IS NOW INTO VEGETABLE CULTIVATION AND HAS MADE FARMING A LUCRATIVE AFFAIR AND REAPING A PROFIT OF RS 2.50 LAKH PER ANNUM WITH THE HELP OF IFFCO-TOKIO .. […]

IFFDC- MOVING FORWARD WITH STEPS FOR ENHANCING LIVELIHOOD OF TRIBAL COMMUNITY

PRESENTLY, IFFDC IS NURTURING 1820 SHGS WITH A TOTAL MEMBERSHIP OF ... […]

SMALL STEP BUT HUGE IMPACT

THE BORO TRIBAL COMMUNITY PARTICULARLY THE WOMEN OF VILLAGES BAMANKUSHI, GHORAMARA, UTTAR BHERA, DAKSHIN BHERA AND BAGMARI SUPA IN BARPETA DISTRICT (ASSAM) ARE VERY MUCH CONTENT […]

NECESSITY IS THE MOTHER OF INVENTION

THIS IS THE STORY OF WOMEN SELF HELP GROUP (SHG) NAMED “DURGA SYAM SHAYATA SAMUH” OF VILLAGE BHAWANIPURA, BLOCK MASUDA, DISTRICT AJMER (RAJ.). […]

स्टाप डेम बना किसानों के लिए वरदान

यदि जल न होतातो सृष्टि का निर्माण सम्भव न होता। यही कारण है कि यह एक ऐसा प्राकृतिक संसाधन है जिसका कोई मोल नहीं है। जीवन के लिये जल की महत्ता को इसी से समझा जा सकता है कि बड़ी-बड़ी सभ्यताएँ नदियों के तट पर ही विकसित हुईं और अधिकांश प्राचीन नगर नदियों के तट पर ही बसे। जल की उपादेयता […]

हमारा अपना सामुदायिक भवन

वर्ष 2015 की बात है गंाव छायन] प्रतापगढ़ (राजस्थान) में आई.एफ.डी.सी. संस्था के कुछ अधिकारीगण आये] गंाव के लोगों से चर्चा की और कहा कि आपके गांव में कोई संस्था या समूह है या कोई परियोजना चल रही है तो गांव वालों का जबाव था] नहीं। वास्तव में उस समय गंाव में कोई भी संस्था या समूह नहीं चल रहा था। […]

विश्वास और हौसला से आई खुशहाली

मै शिवकला पत्नी श्री शिवराम निवासी गोडियागढ़ी खजुरो जनपद रायबरेली की रहने वाली अनुसूचित जाति की गरीब महिला हूँ। मेरे पास एक बीघा खेती भी नहीं थी, इसलिए हमारा परिवार मेहनत-मजदूरी करके अपने परिवार का भरण-पोषण करता था। सन् 1996-97 में हमारे गाॅव में आई.एफ.एफ.डी.सी. संस्था द्वारा समिति का गठन किया गया। […]

एक पहल महिलाओं को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने की

वर्ष 2017-18 में आई.एफ.एफ.डी.सी. संस्था द्वारा इफको टोकियो समन्वित ग्रामीण विकास परियोजना के अन्तर्गत स्वयं सहायता समूह की बहनों को ग्राम स्तर पर सैनेट्री नेपकिन पैड बनाने की मशीन दी गई जिसमें 5 सदस्यों को […]

कम्पोस्ट खाद से पर्यावरण सुरक्षा

मुझे खुशी है कि, मेरा गाँव अब पहले की अपेक्षा बहुत साफ-सुथरा है। अब गाँव में जगह-जगह पर कूड़ा-कचरा के ढेर व बिखरा हुआ गोबर नहीं दिखाई देता। हमारे “उजाला स्वयं सहायता समूह” ने गाँव में फैली गन्दगी से कम्पोस्ट खाद बनाने की एक अनूठी पहल की जिसके हमें सकारात्मक परिणाम मिले। मेरा नाम श्यामलली है, मेरे पति का नाम […]

जमना समूह की पहचान बनी आटा चक्की

यह समूह मोटा मयंगा के स्कूल फला के पास है इसका नाम जमना समूह है इसमें 10 महिलाएं हैं। यह समूह इफको-टोकियो समन्वित ग्रामीण विकास परियोजना आने के बाद वर्ष 2015 के नवम्बर माह में बना था। इस समूह की अभी तक 28 बैठक हो चुकी हैं। जब समूह शुरू हुआ था तो इसकी मासिक बचत 50/- रुपये प्रति माह थी […]

मधुमक्खी पालन बना आय का अतिरिक्त साधन

रायबरेली जनपद की मलिकमऊ एवं खजुरो कृषि वानिकी समिति द्वारा अपने कार्यक्षेत्र की 25 महिला स्वयं सहायता सदस्यों के आय अर्जन हेतु मधुमक्खी पालन कार्यक्रम का प्रारम्भ सितम्बर 2018 में कराया गया […]